बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, July 2, 2017

आग


   मैं उत्तरी घाना के जिस क्षेत्र से आता हूँ, वहाँ दिसंबर से मार्च के बीच के सूखे के समय में मैदानों की घास और झाड़ियों में आग लगना सामान्य बात है। उस सूखे हुए घास और वनस्पति में विनाशकारी आग लगाने के लिए केवल एक छोटी सी चिंगारी काफी होती है। मैंने हवा से उड़कर आई चिंगारियों से कई एकड़ की खेती को जलकर राख होते हुए देखा है; ये चिंगारियाँ मुख्यतः सड़क के किनारे फेंके गई जलती हुई सिग्रेट के टुकड़ों से या किसी के द्वारा किसी काम के लिए असावधानी से जलाई गई आग से आती हैं।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में याकूब ने अपनी पत्री में जीभ को ऐसा ही बताया है, "जीभ भी एक आग है: जीभ हमारे अंगों में अधर्म का एक लोक है और सारी देह पर कलंक लगाती है, और भवचक्र में आग लगा देती है और नरक कुण्ड की आग से जलती रहती है" (याकूब 3:6)। कहीं असावधानी से कही गई कोई झूठी बात, पीठ-पीछे की गई कोई चुगली, कहीं की गई कोई निन्दा या टिप्पणी, इनमें से एक का भी प्रयोग संबंधों को नष्ट कर देने के लिए काफी है। बाइबल में नीतिवचन में लिखा है, "ऐसे लोग हैं जिनका बिना सोच विचार का बोलना तलवार के समान चुभता है, परन्तु बुद्धिमान के बोलने से लोग चंगे होते हैं" (नीतिवचन 12:18)। जैसे आग उपयोगी तथा विनाशक दोनों हो सकती है, उसी प्रकार "जीभ के वश में मृत्यु और जीवन दोनों होते हैं, और जो उसे काम में लाना जानता है वह उसका फल भोगेगा" (नीतिवचन 18:21)।

   यदि हमारे वार्तालाप को परमेश्वर को भावता हुआ तथा हम में उसकी उपस्थिति को प्रगट करने वाला होना है, तो उसे सदा "अनुग्रह सहित" होना चाहिए (कुलुस्सियों 4:6)। यदि किसी विवाद या असहमति में हमें अपने विचार प्रगट करने भी हों, तो परमेश्वर से माँगें कि उस समय में वह हमें ऐसे शब्द और हाव-भाव दे जो शांतिदायक तथा उसे महिमा देने वाले हों, न हो कि हमारे शब्दों की आग से कोई विनाश आए। - लॉरेंस दरमानी


क्रोध और आवेश हमें बुरे शब्दों पर लगाम लगाने के स्थान 
पर उन्हें कहने के लिए विवश कर सकते हैं।

तुम्हारा वचन सदा अनुग्रह सहित और सलोना हो, कि तुम्हें हर मनुष्य को उचित रीति से उत्तर देना आ जाए। - कुलुस्सियों 4:6

बाइबल पाठ: याकूब 3:2-11
James 3:2 इसलिये कि हम सब बहुत बार चूक जाते हैं: जो कोई वचन में नहीं चूकता, वही तो सिद्ध मनुष्य है; और सारी देह पर भी लगाम लगा सकता है। 
James 3:3 जब हम अपने वश में करने के लिये घोड़ों के मुंह में लगाम लगाते हैं, तो हम उन की सारी देह को भी फेर सकते हैं। 
James 3:4 देखो, जहाज भी, यद्यपि ऐसे बड़े होते हैं, और प्रचण्‍ड वायु से चलाए जाते हैं, तौभी एक छोटी सी पतवार के द्वारा मांझी की इच्छा के अनुसार घुमाए जाते हैं। 
James 3:5 वैसे ही जीभ भी एक छोटा सा अंग है और बड़ी बड़ी डींगे मारती है: देखो, थोड़ी सी आग से कितने बड़े वन में आग लग जाती है। 
James 3:6 जीभ भी एक आग है: जीभ हमारे अंगों में अधर्म का एक लोक है और सारी देह पर कलंक लगाती है, और भवचक्र में आग लगा देती है और नरक कुण्ड की आग से जलती रहती है। 
James 3:7 क्योंकि हर प्रकार के बन-पशु, पक्षी, और रेंगने वाले जन्‍तु और जलचर तो मनुष्य जाति के वश में हो सकते हैं और हो भी गए हैं। 
James 3:8 पर जीभ को मनुष्यों में से कोई वश में नहीं कर सकता; वह एक ऐसी बला है जो कभी रुकती ही नहीं; वह प्राण नाशक विष से भरी हुई है। 
James 3:9 इसी से हम प्रभु और पिता की स्‍तुति करते हैं; और इसी से मनुष्यों को जो परमेश्वर के स्‍वरूप में उत्पन्न हुए हैं श्राप देते हैं। 
James 3:10 एक ही मुंह से धन्यवाद और श्राप दोनों निकलते हैं।
James 3:11 हे मेरे भाइयों, ऐसा नहीं होना चाहिए। 

एक साल में बाइबल: 
  • अय्युब 22-24
  • प्रेरितों 11