बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, September 24, 2017

पाठ


   अमेरिका की तैराक, डारा टॉरेस की 1984 से 2008 तक पाँच ओलंपिक खेलों में प्रगति विलक्षण रही थी। अपने खेल कार्यकाल के अन्त की ओर डारा ने अमेरिका का पचास मीटर की तैराकी का वह कीर्तिमान तोड़ा, जिसे उन्होंने ही पच्चीस वर्ष पूर्व बनाया था। परन्तु उनकी यह यात्रा सदा ही पदक और रिकॉर्ड्स नहीं रही। खिलाड़ी होने के अपने जीवन काल में टॉरेस को अनेकों बाधाओं का भी सामना करना पड़ा, जिनमें चोटें, ऑपरेशन, और अपने से लगभग आधी आयु के खिलाड़ियों के साथ स्पर्धा भी सम्मिलित हैं। उन्होंने कहा, "बचपन से ही मैं प्रतिदिन, हर बात में विजयी होना चाहती रही थी....मैं यह भी जानती थी कि असफलताओं का भी एक सकारात्मक पहलू है; इससे नए सपनों को बल मिलता है।"

   "असफलताओं का भी एक सकारात्मक पहलू है" जीवन के लिए एक बहुत अच्छा पाठ है। टॉरेस की असफलताओं ने उसे नई ऊँचाईयों को छूने के लिए प्रेरित किया। इसी प्रकार असफलताओं का आत्मिक पहलू भी है। परमेश्वर के वचन बाइबल में याकूब ने कहा, "हे मेरे भाइयों, जब तुम नाना प्रकार की परीक्षाओं में पड़ो तो इसको पूरे आनन्द की बात समझो, यह जान कर, कि तुम्हारे विश्वास के परखे जाने से धीरज उत्पन्न होता है" (याकूब 1:2-3)।

   जीवन की कठिनाईयों के प्रति यह दृष्टिकोण रखना सरल तो नहीं है, परन्तु लाभदायक अवश्य है। हमारी परीक्षाएं परमेश्वर के साथ हमारे संबंधों को और प्रगाढ़ बनाने के अवसर होते हैं। उन परीक्षाओं से हमें धैर्य के उन पाठों को सीखना आरंभ करने के अवसर भी मिलते हैं, जो सफलताएं हमें कभी नहीं सिखा सकतीं। असफलताएं और परीक्षाएं ही हमें परमेश्वर पर विश्वास बनाए रख कर उसके समय और विधि की प्रतीक्षा करना सिखाती हैं, और इस सब में दृढ़ बने रहने के लिए हमें आवश्यक सामर्थ्य प्रदान करती हैं।

   इसीलिए परमेश्वर के वचन बाइबल में भजनकार हम से इस पाठ के विषय कहता है कि, "यहोवा की बाट जोहता रह; हियाव बान्ध और तेरा हृदय दृढ़ रहे; हां, यहोवा ही की बाट जोहता रह" (भजन 27:14)। - बिल क्राउडर


जीवन में असफलताएं हमें परमेश्वर के समय और विधि की प्रतीक्षा करना 
और उस पर सहायता तथा सामर्थ्य के लिए भरोसा बनाए रखना सिखाती हैं।

परन्तु जो यहोवा की बाट जोहते हैं, वे नया बल प्राप्त करते जाएंगे, वे उकाबों के समान उड़ेंगे, वे दौड़ेंगे और श्रमित न होंगे, चलेंगे और थकित न होंगे। - यशायाह 40:31

बाइबल पाठ: भजन 27
Psalms 27:1 यहोवा परमेश्वर मेरी ज्योति और मेरा उद्धार है; मैं किस से डरूं? यहोवा मेरे जीवन का दृढ़ गढ़ ठहरा है, मैं किस का भय खाऊं? 
Psalms 27:2 जब कुकर्मियों ने जो मुझे सताते और मुझी से बैर रखते थे, मुझे खा डालने के लिये मुझ पर चढ़ाई की, तब वे ही ठोकर खाकर गिर पड़े।
Psalms 27:3 चाहे सेना भी मेरे विरुद्ध छावनी डाले, तौभी मैं न डरूंगा; चाहे मेरे विरुद्ध लड़ाई ठन जाए, उस दशा में भी मैं हियाव बान्धे निशचिंत रहूंगा।
Psalms 27:4 एक वर मैं ने यहोवा से मांगा है, उसी के यत्न में लगा रहूंगा; कि मैं जीवन भर यहोवा के भवन में रहने पाऊं, जिस से यहोवा की मनोहरता पर दृष्टि लगाए रहूं, और उसके मन्दिर में ध्यान किया करूं।
Psalms 27:5 क्योंकि वह तो मुझे विपत्ति के दिन में अपने मण्डप में छिपा रखेगा; अपने तम्बू के गुप्त स्थान में वह मुझे छिपा लेगा, और चट्टान पर चढ़ाएगा। 
Psalms 27:6 अब मेरा सिर मेरे चारों ओर के शत्रुओं से ऊंचा होगा; और मैं यहोवा के तम्बू में जयजयकार के साथ बलिदान चढ़ाऊंगा; और उसका भजन गाऊंगा।
Psalms 27:7 हे यहोवा, मेरा शब्द सुन, मैं पुकारता हूं, तू मुझ पर अनुग्रह कर और मुझे उत्तर दे। 
Psalms 27:8 तू ने कहा है, कि मेरे दर्शन के खोजी हो। इसलिये मेरा मन तुझ से कहता है, कि हे यहोवा, तेरे दर्शन का मैं खोजी रहूंगा। 
Psalms 27:9 अपना मुख मुझ से न छिपा। अपने दास को क्रोध कर के न हटा, तू मेरा सहायक बना है। हे मेरे उद्धार करने वाले परमेश्वर मुझे त्याग न दे, और मुझे छोड़ न दे! 
Psalms 27:10 मेरे माता पिता ने तो मुझे छोड़ दिया है, परन्तु यहोवा मुझे सम्भाल लेगा।
Psalms 27:11 हे यहोवा, अपने मार्ग में मेरी अगुवाई कर, और मेरे द्रोहियों के कारण मुझ को चौरस रास्ते पर ले चल। 
Psalms 27:12 मुझ को मेरे सताने वालों की इच्छा पर न छोड़, क्योंकि झूठे साक्षी जो उपद्रव करने की धुन में हैं मेरे विरुद्ध उठे हैं।
Psalms 27:13 यदि मुझे विश्वास न होता कि जीवितों की पृथ्वी पर यहोवा की भलाई को देखूंगा, तो मैं मूर्च्छित हो जाता। 
Psalms 27:14 यहोवा की बाट जोहता रह; हियाव बान्ध और तेरा हृदय दृढ़ रहे; हां, यहोवा ही की बाट जोहता रह!

एक साल में बाइबल: 
  • श्रेष्टगीत 4-5
  • गलतियों 3


Saturday, September 23, 2017

प्रेम


   मेरी सहेली ने मुझ से कहा, "वह तुम्हारे लिए बिल्कुल सही है"; वह एक ऐसे पुरुष के बारे में बात कर रही थी जिससे वह हाल ही में मिली थी। मेरी सहेली ने उस पुरुष की नम्र आँखों, उदार मुस्कुराहट, और दयालु हृदय का वर्णन किया। जब मैं उस पुरुष से मिली तो उसके विषय मुझे भी अपनी सहेली के साथ सहमत होना पड़ा। आज वह पुरुष मेरा पति है, और इसमें आश्चर्य की कोई बात नहीं है कि मैं उससे बहुत प्रेम करती हूँ।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में, श्रेष्ठगीत नामक पुस्तक में, वधु अपने प्रेमी का वर्णन करती है। वह कहती है कि उसका प्रेम दाखमधु से भी श्रेष्ठ, और सुगन्धित द्रव्यों से भी अधिक सुगंधित है। उसका यही निष्कर्ष था कि इसलिए कोई आश्चर्य नहीं कि उससे प्रेम किया जाता है।

   परन्तु एक है जो किसी भी सांसारिक प्रिय जन से कहीं अधिक बढ़कर है; जिसका प्रेम भी दाखमधु से कहीं अधिक बढ़कर है। उसका प्रेम हमारी प्रत्येक आवश्यकता की तृप्ति करता है। उसकी सुगंध किसी भी सुगंधित द्रव्य से कहीं अधिक बेहतर है क्योंकि जब उसने अपने आप को हमारे लिए बलिदान किया, तो उसका यह बलिदान परमेश्वर के लिए एक मीठी सुगन्ध बन गया (इफिसियों 5:2)। और अन्ततः, उसका नाम सब नामों से श्रेष्ठ है: "इस कारण परमेश्वर ने उसको अति महान भी किया, और उसको वह नाम दिया जो सब नामों में श्रेष्ठ है" (फिलिप्पियों 2:9)। इसलिए इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि संसार भर में उससे प्रेम किया जाता है, और हम भी उससे प्रेम करते हैं।

   प्रभु यीशु से प्रेम कर पाना एक सौभाग्य है; यह जीवन का सर्वोत्तम अनुभव है! लेकिन क्या हम यह बात प्रभु यीशु से कहने के लिए समय निकालते हैं? क्या हम अपने शब्दों से प्रभु यीशु की सुन्दरता का बखान करते हैं? यदि हमारे जीवन, हमारे प्रभु की सुन्दरता और गुणों का बखान करें, तो इसमें कोई आश्चर्य नहीं होगा कि लोग कहेंगे, इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि आप उससे प्रेम करते हैं। - कीला ओकोआ


परमेश्वर का वचन हमारे प्रति उसके प्रेम को बताता है; 
हमारे शब्द उसके प्रति हमारे प्रेम को बताते हैं।

और प्रेम में चलो; जैसे मसीह ने भी तुम से प्रेम किया; और हमारे लिये अपने आप को सुखदायक सुगन्‍ध के लिये परमेश्वर के आगे भेंट कर के बलिदान कर दिया। - इफिसियों 5:2

बाइबल पाठ: श्रेष्ठगीत 1:1-4
Song of Solomon 1:1 श्रेष्टगीत जो सुलैमान का है।
Song of Solomon 1:2 वह अपने मुंह के चुम्बनों से मुझे चूमे! क्योंकि तेरा प्रेम दाखमधु से उत्तम है, 
Song of Solomon 1:3 तेरे भांति भांति के इत्रों का सुगन्ध उत्तम है, तेरा नाम उंडेले हुए इत्र के तुल्य है; इसीलिये कुमारियां तुझ से प्रेम रखती हैं 
Song of Solomon 1:4 मुझे खींच ले; हम तेरे पीछे दौड़ेंगे राजा मुझे अपने महल में ले आया है। हम तुझ में मगन और आनन्दित होंगे; हम दाखमधु से अधिक तेरे प्रेम की चर्चा करेंगे; वे ठीक ही तुझ से प्रेम रखती हैं।

एक साल में बाइबल: 
  • श्रेष्टगीत 1-3
  • गलतियों 2


Friday, September 22, 2017

पाठ


   मैं झील के शान्त पानी में, एक हरी घास के झुरमुट के निकट मछली पकड़ रहा था। मैंने देखा कि एक बड़ी सी मछली, घास के उस झुरमुट में से निकलकर आई और निरीक्षण करने लगी। मेरी बंसी की डोर के अन्त में लगे चारे की ओर उसने ध्यान से देखा, फिर वापस घास के उस झुरमुट में चली गई। उसने ऐसा कई बार तब तक किया जब तक उसे चारे में लगा काँटा नहीं दिख गया। काँटा देखते ही वह तुरंत मुड़ी, और अपनी दुम झटक कर वापस घास के झुरमुट में जाकर छिप गई, और फिर बाहर नहीं निकली।

   शैतान भी इसी प्रकार हमारे सामने, मछली पकड़ने के डोरी और काँटे के समान, प्रलोभन लटकाता है। चारे के समान वह आकर्षक प्रतीत होता है; लगता है कि उससे तृप्ति मिलेगी, परन्तु वह सारा प्रयोजन हमें फंसाने के लिए होता है। लेकिन उस डोरी और काँटे के समान, शैतान के प्रलोभन के वश की भी सीमा है - वह हमें डोरी के अन्त में लगा चारा और उसमें छिपा काँटा दिखा तो सकता है, परन्तु उसे खा लेने के लिए बाध्य नहीं कर सकता है। उसकी सामर्थ्य का, हमारी इच्छा-शक्ति, हमारी निर्णय लेने के बिन्दु पर आकर अन्त हो जाता है। जब परमेश्वर का पवित्र आत्मा हमें सचेत करे और हम प्रलोभन को स्वीकार करने से इन्कार कर दें, तो शैतान इससे आगे और कुछ नहीं कर सकता है। परमेश्वर के वचन बाइबल में याकूब लिखता है कि जब हम शैतान का सामना करते हैं तो वह हमारे पास से भाग जाता है (याकूब 4:7)।

   हम मसीही विश्वासी प्रेरित पतरस के शब्दों से, जिसने स्वयं भी बहुत बड़ी परीक्षा का सामना किया था (मत्ती 26:33-35), बहुत सांत्वना पा सकते हैं। पतरस ने लिखा, "सचेत हो, और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जने वाले सिंह के समान इस खोज में रहता है, कि किस को फाड़ खाए। विश्वास में दृढ़ हो कर, और यह जान कर उसका साम्हना करो..." (1 पतरस 5:8-9)। जिस प्रकार उस बड़ी मछली ने मेरी डोरी और काँटे की उपेक्षा की, परमेश्वर की सहायता और सामर्थ्य से हम भी शैतान के बड़े से बड़े प्रलोभन का सफलतापूर्वक सामना कर सकते हैं। - डेव एग्नर


शैतान के झूठ का परमेश्वर के वचन के सत्य से सामना करें।

इसलिये परमेश्वर के आधीन हो जाओ; और शैतान का साम्हना करो, तो वह तुम्हारे पास से भाग निकलेगा। - याकूब 4:7

बाइबल पाठ: 1 पतरस 5:1-9
1 Peter 5:1 तुम में जो प्राचीन हैं, मैं उन के समान प्राचीन और मसीह के दुखों का गवाह और प्रगट होने वाली महिमा में सहभागी हो कर उन्हें यह समझाता हूं। 
1 Peter 5:2 कि परमेश्वर के उस झुंड की, जो तुम्हारे बीच में हैं रखवाली करो; और यह दबाव से नहीं, परन्तु परमेश्वर की इच्छा के अनुसार आनन्द से, और नीच-कमाई के लिये नहीं, पर मन लगा कर। 
1 Peter 5:3 और जो लोग तुम्हें सौंपे गए हैं, उन पर अधिकार न जताओ, वरन झुंड के लिये आदर्श बनो। 
1 Peter 5:4 और जब प्रधान रखवाला प्रगट होगा, तो तुम्हें महिमा का मुकुट दिया जाएगा, जो मुरझाने का नहीं। 
1 Peter 5:5 हे नवयुवकों, तुम भी प्राचीनों के आधीन रहो, वरन तुम सब के सब एक दूसरे की सेवा के लिये दीनता से कमर बान्‍धे रहो, क्योंकि परमेश्वर अभिमानियों का साम्हना करता है, परन्तु दीनों पर अनुग्रह करता है। 
1 Peter 5:6 इसलिये परमेश्वर के बलवन्‍त हाथ के नीचे दीनता से रहो, जिस से वह तुम्हें उचित समय पर बढ़ाए। 
1 Peter 5:7 और अपनी सारी चिन्‍ता उसी पर डाल दो, क्योंकि उसको तुम्हारा ध्यान है। 
1 Peter 5:8 सचेत हो, और जागते रहो, क्योंकि तुम्हारा विरोधी शैतान गर्जने वाले सिंह के समान इस खोज में रहता है, कि किस को फाड़ खाए। 
1 Peter 5:9 विश्वास में दृढ़ हो कर, और यह जान कर उसका साम्हना करो, कि तुम्हारे भाई जो संसार में हैं, ऐसे ही दुख भुगत रहे हैं।

एक साल में बाइबल: 
  • सभोपदेशक 10-12
  • गलतियों 1



Thursday, September 21, 2017

स्मरण


   जिस छोटे दफ्तर को किराए पर लेकर मैं अब कार्य कर रही हूँ, वहाँ केवल कुछ मक्खियाँ ही रहा करती थीं; और उन में से अनेक मर चुकी थीं। वे मरी हुई मक्खियाँ चारों ओर, फर्श पर और खिड़कियों की दहलीज़ पर बिखरी पड़ी थीं। काम आरंभ करने से पहले मैंने वहाँ की सफाई करते हुए उन सभी मरी हुई मक्खियों को भी हटा दिया, सिवाए एक के। उस एक मक्खी को मैंने अपने सामने स्पष्ट दिखाई देने वाले स्थान पर रख दिया। वह मरी हुई मक्खी मुझे स्मरण दिलाती है कि मैं प्रत्येक दिन को भली-भांति व्यतीत करूँ। जीवन को स्मरण दिलाने के लिए मृत्यु एक बहुत अच्छा साधन है, और जीवन परमेश्वर से मिला उपहार है।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में राजा सुलेमान ने अपनी सभोपदेशक नामक पुस्तक में लिखा, "जो सब जीवतों में है, उसे आशा है" (सभोपदेशक 9:4)। पृथ्वी पर हमारा जीवन हमें अपने आस-पास के संसार को प्रभावित करने और उसका आनन्द लेने का अवसर देता है। हम अच्छे से खा-पी सकते हैं, अपने संबंधों का आनन्द उठा सकते हैं (पद 7, 9)। हम अपने कार्य से भी आनन्द ले सकते हैं। सुलेमान ने यह भी लिखा, "जो काम तुझे मिले उसे अपनी शक्ति भर करना, क्योंकि अधोलोक में जहां तू जाने वाला है, न काम न युक्ति न ज्ञान और न बुध्दि है" (पद 10)। जीवन में हमारा जो भी कार्य या जीविका का साधन हो, हम उसमें प्रभावी हो सकते हैं, और उन सभी कार्यों को अच्छे से कर सकते हैं। हम लोगों को प्रोत्साहित कर सकते हैं, प्रार्थना कर सकते हैं, लोगों के प्रति निष्ठा और प्रेम प्रगट कर सकते हैं।

   सभोपदेशक का लेखक लिखता है, "...वे सब समय और संयोग के वश में हैं। क्योंकि मनुष्य अपना समय नहीं जानता।" (पद 11-12)। हमारे लिए यह जानना कि पृथ्वी पर हमारा जीवन कब समाप्त होगा असंभव है, परन्तु परमेश्वर की सामर्थ्य और प्रभु यीशु द्वारा अनन्त जीवन की प्रतिज्ञा में होकर जीवन में आज आनन्द और उद्देश्य पाना, और भरपूरी का जीवन जीना संभव है, जैसा कि प्रभु यीशु ने कहा: "...मैं इसलिये आया कि वे जीवन पाएं, और बहुतायत से पाएं" (यूहन्ना 10:10)। हम अपने जीवन की अनिश्चितता को स्मरण रखते हुए, जो जीवन मिला है उसे प्रभु यीशु में होकर भरपूरी से जीएं। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


आज का यह दिन परमेश्वर का उपहार है। इसमें आनन्दित हों, इसे भरपूरी से जीएं।

हम को अपने दिन गिनने की समझ दे कि हम बुध्दिमान हो जाएं। - भजन 90:12

बाइबल पाठ: सभोपदेशक 9:4-12
Ecclesiastes 9:4 उसको परन्तु जो सब जीवतों में है, उसे आशा है, क्योंकि जीवता कुत्ता मरे हुए सिंह से बढ़कर है। 
Ecclesiastes 9:5 क्योंकि जीवते तो इतना जानते हैं कि वे मरेंगे, परन्तु मरे हुए कुछ भी नहीं जानते, और न उन को कुछ और बदला मिल सकता है, क्योंकि उनका स्मरण मिट गया है। 
Ecclesiastes 9:6 उनका प्रेम और उनका बैर और उनकी डाह नाश हो चुकी, और अब जो कुछ सूर्य के नीचे किया जाता है उस में सदा के लिये उनका और कोई भाग न होगा।
Ecclesiastes 9:7 अपने मार्ग पर चला जा, अपनी रोटी आनन्द से खाया कर, और मन में सुख मान कर अपना दाखमधु पिया कर; क्योंकि परमेश्वर तेरे कामों से प्रसन्न हो चुका है।
Ecclesiastes 9:8 तेरे वस्त्र सदा उजले रहें, और तेरे सिर पर तेल की घटी न हो।
Ecclesiastes 9:9 अपने व्यर्थ जीवन के सारे दिन जो उसने सूर्य के नीचे तेरे लिये ठहराए हैं अपनी प्यारी पत्नी के संग में बिताना, क्योंकि तेरे जीवन और तेरे परिश्रम में जो तू सूर्य के नीचे करता है तेरा यही भाग है। 
Ecclesiastes 9:10 जो काम तुझे मिले उसे अपनी शक्ति भर करना, क्योंकि अधोलोक में जहां तू जाने वाला है, न काम न युक्ति न ज्ञान और न बुद्धि है।
Ecclesiastes 9:11 फिर मैं ने धरती पर देखा कि न तो दौड़ में वेग दौड़ने वाले और न युध्द में शूरवीर जीतते; न बुध्दिमान लोग रोटी पाते न समझ वाले धन, और न प्रवीणों पर अनुग्रह होता है, वे सब समय और संयोग के वश में हैं। 
Ecclesiastes 9:12 क्योंकि मनुष्य अपना समय नहीं जानता। जैसे मछलियां दुखदाई जाल में बझतीं और चिड़ियें फन्दे में फंसती हैं, वैसे ही मनुष्य दुखदाई समय में जो उन पर अचानक आ पड़ता है, फंस जाते हैं।

एक साल में बाइबल: 
  • सभोपदेशक 7-9
  • 2 कुरिन्थियों 13


Wednesday, September 20, 2017